13 C
Ranchi
Friday, January 22, 2021
Home झारखण्ड: नदी, तालाब व सार्वजनिक जलाशयों पर छठ नही मनेगा

झारखण्ड: नदी, तालाब व सार्वजनिक जलाशयों पर छठ नही मनेगा

राँची । चार दिवसीय छठ महापर्व 18 नवंबर से नहाय-खाय के साथ शुरू हो रहा है। जिसकी तैयारी में श्रद्धालु दीपावली के दूसरे दिन से ही जुट गए है। हालांकि, कोरोना (कोविड-19) महामारी की वजह से इस बार झारखंड के तालाबों और नदियों के किनारे छठ महापर्व का आयोजन नहीं किया जा सकेगा। इसे लेकर राज्य आपदा प्रबंधन विभाग ने रविवार रात दिशा-निर्देश जारी कर दिया है।
झारखंड सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देश में कहा गया है कि छठ महापर्व के दौरान श्रद्धालुओं के लिए नदियों व तालाबों में केंद्र सरकार के निर्देशों और सोशल डिस्टेंसिंग (दो गज दूरी) का पालन संभव नहीं है। ऐसे में लोगों को अपने घरों में ही इस बार छठ महापर्व का आयोजन करना होगा। इसके साथ ही दिशा-निर्देश स्पष्ट कहा गया है कि इस बार छठ महापर्व के दौरान किसी भी नदी, लेक, डैम या तालाब के किनारे बने घाट पर किसी तरह के कार्यक्रम के आयोजन की मनाही होगी। छठ घाट के समीप कोई दुकान, स्टॉल आदि नहीं लगेगा। पर्व के दौरान सार्वजनिक स्थल पटाखा, लाइटिंग और मनोरंजन संबंधी कार्यक्रम पर भी पूरी तरह से रोक रहेगी।
जारी निर्देश के मुताबिक, छठ महापर्व के दौरान नदी, तालाब, डैम, लेक आदि में स्नान करनेवाले श्रद्धालुओं के लिए मास्क पहनना संभव नहीं है। वहीं, दो गज दूरी का पालन भी नहीं हो पायेगा, क्योंकि इस पर्व में एक जगह पर एक साथ एक से ज्यादा परिवार के लोग शामिल होते हैं। वहीं, नदी व तालाब आदि के एक ही पानी में सैकड़ों भक्त भगवान भास्कर को अर्घ्य देने के लिए उतरते हैं। ऐसे में कोरोना का संक्रमण फैलने का संभावना काफी बढ़ जाएगी। ऐसे में बेहतर होगा कि लोग अपने घरों में ही यह छठ पर्व मनायें।
बात दें कि छठ महापर्व को लेकर बिहार सरकार ने भी दिशा-निर्देश जारी किए हैं। इसके तहत इस बार गंगा समेत राज्य की तमाम बड़ी नदियों के घाटों पर छठ पर्व का आयोजन नहीं होगा। लेकिन, ग्रामीण और शहरी क्षेत्र में मौजूद तालाब में छठ पर्व करने की अनुमति दी गयी है। इस दौरान कोविड-19 से जुड़े तमाम दिशा-निर्देशों का पालन कराया जायेगा। वहीं जिन तालाबों में छठ पर्व का आयोजन होगा, वहां अर्घ्य से पहले और बाद में पूरे तालाब क्षेत्र को सैनिटाइज कराने की व्यवस्था की जायेगी। यह काम नगर निकाय और ग्राम पंचायत के स्तर से कराया जायेगा। घाटों के आसपास किसी तरह के खाने-पीने के स्टॉल नहीं लगाये जायेंगे। घाट पर किसी तरह का भोज या प्रसाद का वितरण नहीं किया जायेगा।

Most Popular

गिरिडीह – क्यो पड़ा एक होटल का नाम बेवकूफ होटल

गिरिडीह - अगर आपको लगता है सिर्फ आमिर खान ही इडियट है तो ये आपका भरम है, झारखंड के गिरिडीह शहर मे...

देवघर – 25 जनवरी राष्ट्रीय मतदाता दिवस पर सभी छूटे लोग मतदाता सूची में दर्ज कराए नाम – उपायुक्त

देवघर।जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह उपायुक्त मंजूनाथ भजंत्री ने जिलावासियों, जनप्रतिनिधियों तथा राजनैतिक दलों से अपील करते हुए कहा है कि आगामी 25...

दुमका – राज्य स्तर से आये विशेष सचिव ने ग्रामीण विकास विभाग की समीक्षा बैठक की

समाहरणालय सभागार में राज्य से आए विशेष सचिव रवि रंजन एवं उपायुक्त राजेश्वरी बी की अध्यक्षता में ग्रामीण विकास अभिकरण विभाग की...

साहिबगंज – ज़िला स्वास्थ्य समिति की बैठक

आज उपायुक्त राम निवास यादव की अद्यक्षता में उनके कार्यालय प्रकोष्ठ में जिला स्वास्थ्य समिति के सदस्यों के साथ स्वास्थ्य समिति की...

Recent Comments